Saturday, December 25, 2010

सवालों का चक्रव्यूह


2जी स्पेक्ट्रम घोटाले मामले की जांच कर रही सीबीआई ने पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा से कई मुद्दों पर पूछताछ कीसीबीआई और राजा के बीच सवाल जवाब का दौर करीब नौ घंटे तक चला... सीबीआई ने राजा को वो दस्तावेज भी दिखाए, जो पिछले साल दूरसंचार विभाग के कार्यालयों पर मारे गए छापों में ज़प्त किए गए थे... सीबीआई के राजा से पूछे गए अहम सवाल कुछ इस तरह थे...
·         कॉपरेरेट लॉबिस्ट नीरा राडिया के कहने पर किन टेलीकॉम कंपनियों को कम कीमतों पर स्पेक्ट्रम दिए गए?
·         राडिया से राजा की नजदीकी के पीछे वजह क्या है ?
·         तत्कालीन दूरसंचार सचिव के कम दामों पर स्पेक्ट्रम आवंटन करने को मना करने के बावजूद उसे नजरअंदाज क्यों किया?
·         पहले आओ पहले पाओ की 2001 की नीति को क्यों क्यों बदला गया?
·         ऐसी क्या जल्दी थी कि स्पेक्ट्रम आवंटन को महज 45 मिनट में ही निपटा दिया गया?
राजा के सामने सबसे कठिन सवाल ये था कि....
·         एक टेलीकॉम कंपनी ने स्पेक्ट्रम आवंटन की धनराशि का चेक एक दिन पहले ही कैसे काट दिया?
इससे यह साबित होता है कि उस कंपनी को ये पता था कि उसे लाइसेंस मिलने वाला है... ये वही कंपनी है जिसके तार नीरा राडिया से सीधे जुड़े हैं... राजा से यूएएस एकीकृत लाइसेंस सेवा के आवंटन के बारे में भी पूछताछ की गई...इसमें आगे की जांच जारी है.... और आगे भी राजा सीबीआई के सवाल के चक्रव्यू में गिरे रहेगे....  



Thursday, December 23, 2010

सीबीआई... सवाल... राजा और राडिया

राजा और राडिया की साठ-गाठ ने देश के सबसे बड़े घोटाले को अंजाम दिया है... जिसकी जाच पड़ताल में सीबीआई जुटी है... 1 लाख 76 करोड़ रु0 के 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले में फंसी नीरा राडिया एक बार फ़िर करेगी सीबीआई का सामना... 2जी स्‍पेक्‍ट्रम लाइसेंस में हुए घोटाले से चर्चा में आईं नीरा राडिया लियाजनिंग करने वाली देश की बड़ी हस्तियों में शुमार हैं... टेलीकॉम कंपनियों और सरकार के बीच अहम भूमिका निभाने वाली राडिया से सीबीआई लगातार पूछताछ कर रही है... लेकिन इस घोटाले से कई ऐसे नाम भी जुड़े है जो सफेदपोश की आड़ में देशद्रोह का खेल खेल रहे है... जिसमें राजनेता... उद्योगपति और कई नामी पत्रकार शामिल हैं... बहरहाल इससे पहले भी राडिया को सीबीआई तलब चुकी है... और उनके कई ठिकानों पर छापेमारी भी की गई है... सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट को पिछले महीने दिए एफिडेविट में कहा था कि... इस पूरे मामले में राडिया का रोल संदिग्ध है.... सीबीआई छापे के दौरान कई सबूत मिलने के दावे भी कर रही है... राडिया पर देशद्रोही गतिविधियों में लिप्त होने का आरोप भी है... एफिडेविट में कहा गया है कि राडिया ने 9 साल में 300 करोड़ रुपए का बिजनेस खड़ा कर दिया है.... 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले की जांच में जुटी सीबीआई ने राजा और राडिया पर सीबीआई का शिंकजा कसता ही जा रहा है... 2जी स्पेक्ट्रम मामले में राडिया पर शक की सूई 16 नवंबर 2007 में अटकी... जब राडिया के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई... उसके बाद 20 अगस्त 2008 से 120 दिन तक और फिर 11 मई 2009 से 9 जुलाई 2009 तक... 180 दिन राडिया की बातचीत की रिकॉर्ड की गई... 23 दिसंबर 2009 को आयकर  महानिदेशक ने राडिया के 1450  कॉल रिकॉर्ड कर सीबीआई को सौंपे... मई 2010 में सीबीआई ने आयकर महानिदेशक से 20 अगस्त 2008 से 9 जुलाई 2009 तक राडिया की पूरी बातचीत के टेप उपलब्ध कराने को कहा... पहली बार अप्रैल 2010 में राडिया और अन्य के बीच हुई बातचीत आयकर विभाग ने टेप की जो मीडिया में सुर्खियां बनी...... लेकिन नवंबर 2010 में ये टेप पूरी तरह से मीडिया में छा गया... टेप की बातचीत के अंश प्रकाशित करने के लिए उन मैगज़िस को नोटिस भी जारी किए गए जिसने ये टेप प्रकाशित किए थे.... सरकार को भी राडिया पर चोरी और विदेशी ख़ुफ़िया एजेंसियों के लिए जासूसी करने का शक है... सरकार राडिया की बातचीत के 140 टेपों को वापस हासिल नहीं करने की बात कर रही है...क्योंकि ये टेप कई जगह प्रकाशित हो चुकी है.... राडिया देश के दो बड़े उद्योगपतियों की कंपनियों के लिए जनसंपर्क का काम करती थीं... अब तक सार्वजनिक हुए टेप से खुलासा हुआ है कि वो ग्राहक कंपनियों को फायदा पहुँचाने के लिए जर्नलिस्ट से लेकर नेताओं का किस तरह से इस्तेमाल करती रही थीं... देश में 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले से मची उथल-पुथल के बाद सरकार को राडिया पर चोरी और विदेशी ख़ुफ़िया एजेंसियों के लिए जासूसी करने का शक है.... एक तरफ सरकार का कहना है कि वो राडिया की बातचीत के 140 टेपों को वापस हासिल नहीं कर सकती क्योंकि पूरी टेप कई जगह प्रकाशित हो चुकी है... एक न्यूज़ मैग्जीन ने नीरा राडिया की बातचीत के 800 नये टेप मिलने का का दावा किया है... सवाल ये है कि इन 800 टेपों की जानकारी ऐसे समय में मिली है जब सरकार ने नीरा की बातचीत के सारे टेप एक सील बंद लिफ़ाफ़े में सुप्रीम कोर्ट को सौप दिये हैं... राडिया देश के दो बड़े उद्योगपतियों की कंपनियों के लिए जनसंपर्क का काम करती थीं... अब तक सार्वजनिक हुए टेप से खुलासा हुआ है कि वो ग्राहक कंपनियों को फायदा पहुँचाने के लिए जर्नलिस्ट से लेकर नेताओं का किस तरह से इस्तेमाल करती रही थीं...

Thursday, December 9, 2010

Year of the Scams


Year 2010 is the year when maximum scams came to light. In this year many scam have been opened and came infront the public,.These scams includes many kind of scams in various fields. Mumbai Aadrash Housing  Society scam of former Chief Minister of Mharastra  Ashok Chauhan , Delhi Commonwealths Games scam of former President of CWGS Organizing committee Suresh Kalmadi  and  Bangluru Land scam of  Chief Minister of Karnataka  B.S Yadurappa,  as well as the mining  scam of Reddy Brothers. One another scam of 2010 which has been highlighted is  Indian Premier League scam of former commissioner of IPL  Lalit Modi . And Most recently opened scam is  UP’s Food scam which occurred during the govt of  Samajwadi Party (SP). During this year many types of scams opened, but the biggest scam of the year is 2G spectrum scam. this scam is of 1.77 lakh crores of rupees. The blame of this scam on former Communication Minister A Raja. This scam has links with other countries also. one thing is common in all these scams. All these scam are blame on high profile personalities and they have got big power and support. this is a white color crime. Due to these  the  common man is suffering the burden of inflation. Actually we want to say only to UPA Government that please  don’t play hide & seek game with common man and stop the corruption please take hard action against  corrupt Leaders, Officers, and Business Tycoon. 


MARZIYA JAFAR

Wednesday, December 8, 2010

Varansi bomb blast

The Varansi Bomb Blast is slap on Security Agencies of  India. Because one day before the blast was 6th December the anniversary of “BABRI MOSQUE” demolition and due to this the alert was already given.There should had been extra management of Security due to this alert  but there was no such of arrangement of Security at the “Ghats” of  varansi. Even the metal detector was damaged. It is clear that the inspite of alerts the Security is not looked up well. Anyways During blast at a two year old girl has died and 27 people have been injured, in the list of injured 6 people are foreigner. One is the the from Italy. Who is majority injured.
The bomb blasted at 6.30 pm and   the it was time for  “Ganga Aarti’’ The blast occurred in a milk container kept at the Ghat. Yesterday was Tuesday therefore in the “Sheetla Ghat” and “Dashasumer Ghat”  there was lots of rush and everybody was bussy in “Ganga Aarti”  but due to this blast the Aarti  was stopped in mid between.
After the bomb blast High Alert has been  declared in most of the spiritual place of related to Hindus  along with this the Security of  Delhi, Mumbai, Nagpur, Hybrabad and Bangluru has been tighted. After the half & hour of the Blast “Indian Mujahideen” sent  E-mail of Media and took  the responsibility of this attack. During the Investigation. It was found that this E-mail was  sent to from  Navi Mumbai. Police has arrested two people during the investigations.
According to the source this Blast was  done in  remembered  of 18  year back   “BABRI MOSQUE”  demolition. According to the ATS Source E-mail has been sent from the address alfateh00005@gmail.com and for sending  the E-mail  Airtel broadband connection. Those was the used IP address is  122.158.42.223.  According to the Source “Indian Mujahideen’s” member is in involved in this blast his name is  “Dr. Shahnawaz”   from “Azamgarh”. But the question simple arise that what Indian Security Agencies are doing they  always promises for  sure safety but results  are zero. In this condition what  Indian can do.After seeing the situation of the country we feel that we will have to take some step against terrorist. Our government is only a  rubber stump and is of no good. Because before five years ago also the  blast “SANKAT MOCHAN” temple  23 February in 2005 and in that blast 8 people died as dead. Despite as this Security and safety is being ignored.   MARZIYA JAFAR

Monday, December 6, 2010

घाटी में परदेसी परिंदे

चाहे लगा लो जितने पहरे... कुछ रिश्ते होते है इंसानियत से भी गहरे... सरहद पार से लम्बी उड़ान भरकर आए ये बे-ज़ुबान परदेसी परिंदे शायद अपनी मीठी सी चहचहाहट के ज़रिये प्यार और अमन का पैग़ाम लेकर आए है... की दुनिया की कोई भी शै इन पर बंदिश नहीं लगा सकती है... आज़ाद होकर नीलगगन में अपनी ही धुन में मगन होकर उड़ने वाले ये पंक्षी कब कहां बसेरा कर ले ये तो इनकी मर्ज़ी में शामिल होता है... और आजकल इन ख़ूबसूरत तायरों ने अपने पड़ोसी मुल्क भारत को अपना अशियाना बनाया है... इन दिनों ये परदेसी मेहमान घाटी में चहक रहे हैं... इन पंक्षियों की मीठी और सुरीली आवाज़ घाटी की फ़िज़ाओं में मीठे सुर घोल रही है... मस्तमौला मिजाज़ के ये परिंदे घाटी के हालात से बेख़बर बिना किसी ख़ौफ़ के आज़ादी से खुले असमान में उड़ान भर रहे है... दरअसल मध्य एशिया और चाईना में मौसम का मिजाज़ बदलते ही ठंड से बचने के लिए ये तायर घाटी का रूख कर लेते हैं... 15 सितंबर से नवंबर तक ये परदेसी परिंदों का घाटी में आना शुरू हो जाते हैं... और कुछ दिनों यहां अपना बसेरा करने के बाद वापस अपने वतन की तरफ़ रवाना हो जाते है.... ये परदेसी मेहमान हर साल 200,000 की तादात में मध्य एशिया और चाईना से कश्मीर में आते है... जिसमे हर तरह के परिंदे शामिल है... घाटी के नीले अंबर में पंख पसारे हवा से बाते करते इन तायरों की उड़ान का नज़ारा बहुत ही दिलकश होता है... इन परिंदों की आज़ादी देखकर किसी का खुले आसमान में उड़ने का दिल चाहेगा... घाटी में आने वाले सैलानियों को भी ये नज़ारा ख़ूब भा रहा है...

मरज़िया जाफ़र