Friday, April 8, 2011

हज़ारे नए युग के गांधी....


आज़ादी का वो दौर याद आ गया... जिसके किस्से आज तक सिर्फ़ किताबों में पढ़े थे... देश को आज़ाद कराने के लिए लाख़ो वीर जवानों ने अपने प्रणा की आहूति दी... लेकिन कुछ चुनिंदा नाम हमेशा हमारी जुबान पर रहते है... भगत सिंह, राजगुरू, सतगुरू”… आज़ादी मिलने के बाद देश गुलामी की ज़ंजीरों से तो आज़ाद हो गया... लेकिन फंस गया भ्रष्टाचार के घिनौने दलदल में... लेकिन भारत माता की गोद में आज भी गांधी जैसे उसके होनहार सपूत मौजूद है... जो अपनी मां की रक्षा के लिए बलिदान दे सकते है... और इसकी जीती जागती मिसाल बनकर उभरे है अन्ना हज़ारे... जो देश को भ्रष्टाचार के घिनौने दलदल से मुक्त करने के लिए सरकार से जन लोकपाल बिल पास करने की जिद पर अड़े हैं...  अन्ना की ये ज़िद ही देश में इमान की क्रांती को जन्म दे सकती है...
इस लड़ाई में पूरा देश उनके साथ है... इंसाफ़ की आंधी में जन सैलाब का रूख लगातार अन्ना हज़ारे के मंच की तरफ़ बढ़ रहा है... भ्रष्टाचार से मुक्ति पाने का नारा लेकर देश का हर तबक़ा दिल्ली के जंतर-मंतर पहुंच रहा है... हज़ारे की भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ छेड़ी गई जंग में... देश के ख़ास-व-आम अन्ना की आवाज़ बन रहे है... हर तरफ़ से सिर्फ एक ही नारा बुलंद हो रहा है... अन्ना हज़ारे आगे बढ़ो, हम तुम्हारे साथ हैं... अन्ना के समर्थन के लिए कई फिल्मी हस्तियां, सामजसेवी, धर्मगुरू, और आम आदमी का जमावड़ा जंतर मंतर पर लगा है...
देश के आंदोलन और महात्मा गांधी के किस्से किताबों में पढ़ने वाले बच्चे भी हज़ारे की उंगली पकड़े के लिए आंदोलन में शामिल हो रहे है... अन्ना के अंदर लोगों को गांधी जी की छवी नज़र आ रही है... हैरत तो ये है की इन मासूम को भ्रष्टाचार का सही मानों में मतलब भी नही पता है... लेकिन भविष्य में देश की बागदौड़ संभालने वाले बच्चे अन्ना का समर्थन करने पहुंचे...
अन्ना के अनशन से सरकार के खैमें में खलबली मच गई... सरकार ने अपनी तरफ़ से मानव संसाधन मंत्री कपिल सिब्बल को अन्ना को समझाने के लिए भेजा... लेकिन मसले का कोई हल नही निकला अन्ना की 5 मांगों में से सरकार ने दो मुद्दे नोटिफिकेशन और समीति के अध्यक्ष पद पर सहमति नहीं जताई... तो अन्ना भी अड़े रहे... सरकार को नाको चने चबवाने वाले अन्ना के आमरण अनशन से सरकार में बैठकों का दौर जारी है... और इस सिलसिले में  प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह राष्ट्रपति प्रतिभा  देवी सिंह पाटिल से भी मिले... लेकिन ज़िद पर अड़े हज़ारे किसी भी कीमत पर सरकार के आगे झुकने को तैयार नहीं हैं... उनका कहना है की सरकार का दिमाग ठिकाने पर आएगा... बहरहाल जंतर मंतर से उठी अंदोलन की आग की लपटों ने पूरे देश को जकड़ लिया है... हाज़ारों आंदोलन का गवाह बना जंतर मंतर तहरीर चौक की शक्ल इख़तियार कर चुका... और अब ये अन्ना के देश व्यापी आंदोलन का गवाह बनने जा रहा है...    

No comments:

Post a Comment